Home Loan क्या होता है – होम लोन इंटरेस्ट रेट 2022

अगर आपका सपना है एक प्यारा सा घर बनवाने का तो home loan क्या होता है इसकी जानकरी होनी चाहिए। इस लेख लेख के माध्यम से होम लोन की संपूर्ण जानकारी हिंदी में बताई जा रही है। इसी के साथ आप जानेंगे होने लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज अर्थात कागज़ (डॉक्यूमेंट) कौन-कौन सा लगेगा? Home Loan के विभिन्न प्रकार भी होते हैं और कौन सा लोन आपके लिए बेस्ट होगा और किस बैंक के माध्यम से गृह ऋण आसानी से मिल जाता है इन सभी बातों को हिंदी में जानेंगे।

अगर आप होम के लिए मिलने वाले या होम के ऊपर मिलने वाले लोन को कैलकुलेट करना चाहते हैं तो, इसके लिए बहुत सारे होम लोन कैलकुलेटर ऑनलाइन मिल जायेंगे जिसकी सहायता से आप लोन का अमाउंट, EMI और एलिजिबिलिटी भी कैलकुलेट कर सकते हैं।

इसके अतिरिक्त अगर आप होम लोन के लिए सब्सिडी एलिजिबिलिटी 2022 में चेक करना चाहते हैं तो उसका भी प्रोसेस आपको नीचे बताया गया है।

अगर आप एकल श्रमजीवी महिला हैं, विधवा हैं या फिर दिव्यांग महिला हैं तो आपको निराश होने की जरुरत नहीं। आप जैसी महिलाओं के लिए सरकार ने तथा कुछ वित्तीय संस्थान ने होम लोन प्रदान करने के लिए विशेष ध्यान दिया है।

इसके अतिरिक्त ट्रांसजेंडर को आसानी से घर मिल सके इसके के लिए भारत सरकार एक अच्छी होम लोन स्कीम लायी है। इसी के साथ HDFC बैंक तथा LIC ने भी महिलाओं का अपना घर का सपना पूरा करने के लिए हर संभव प्रयास किया है। तो चलिए जानते हैं होम लोन की संपूर्ण जानकारी हिंदी में।

होम लोन क्या है?

आसान शब्दों में कहें तो घर खरीदने, बनवाने या मरम्मतके उद्देश्य से लिया जाने वाला लोन होम लोन कहलाता है। होम लोन एक प्रकार सिक्योर्ड लोन है। यह लंबे अंतराल के लिए प्रदान किया जाता है और इसका इंटरेस्ट रेट भी अन्य प्रकार के लोन जैसे कि Gold Loan, पर्सनल लोन इत्यादि की अपेक्षा कम होता है।

जैसा कि ये सिक्योर्ड (सुरक्षित) लोन है तो इसे प्राप्त करने के लिए आपको होम लोन प्रदाता बैंक या वित्तीय संस्थाओं के समक्ष सिक्योरिटी के तौर पर कोई बहुमूल्य संपत्ति रखनी होगी।

सिक्योरिटी के तौर पर आप अपने जमीन के डॉक्यूमेंट, सिक्योरिटी पेपर जैसे कि डिमांड शेयर, म्यूच्यूअल फंड, बीमा (इन्शुरन्स) पेपर, कोई अन्य बहुमूल्य अचल संपत्ति और खुद उस घर के डॉक्यूमेंट जिसे आप खरीदना चाहते हैं, को सिक्योरिटी (गिरवी) के तौर पर रख सकते हैं।

हालांकि ऊपर में बताये गए गिरवी विकल्प के मार्केट मूल्य (वैल्यू) के आधार पर लोन की धनराशि कितनी मिलेगी यह ऋण प्रदाता ही तय करेगा।

लगभग सभी होम लोन प्रदाता बैंक अथवा वित्तीय संस्थान और NBFC मुख्यतः उस प्रॉपर्टी के दस्तावेज़ की मांग करते हैं जिसे आप लेना हैं या जिसपर आप लोन लेना चाहते हैं।

हालांकि आपके जमीन के डॉक्यूमेंट उस ऋण प्रदाता के पास तब तक रहेंगे जब तक आप पूरी ऋण की धनराशि जमा नहीं कर देते।

अगर आपके पास जमीन है और आप उसपर घर बनाने सोच रहे हैं या कोई बना हुआ घर लेना चाहते हैं तो उसके कागजात को होम लोन देने वाले संस्थान को देना होगा। इसके बाद वह संस्थान आपके उस जमीन या घर के कागजात को सत्यापित करेगा अर्थात जाँच पड़ताल करेगा।

अगर सब कुछ सही रहा तो आपको एक स्वीकृति पत्र (sanction letter) जारी किया जायेगा। उस स्वीकृति पत्र में सारी जानकारी लिखी होती है जैसे कि लोन अमाउंट, EMI, इंटरेस्ट रेट, loan की अवधि इत्यादि। उस स्वीकृति पत्र पर हस्ताक्षर करने बाद ऋण की धनराशि दी जाती है।

आपके जानकारी के लिए बता दें कि जो loan amount होता है वो सीधा आपको ना देकर उस जमीन अथवा घर विक्रेता को दिया जाता है। ऋण की धनराशि कितनी मिलेगी यह आपके संपत्ति के प्रकार, आपकी आयु, CIBIL score, आपकी आय (income) इत्यादि पर निर्भर करता है।

होम लोन इंटरेस्ट रेट

2022 में बैंक की ओर से दिया जाने वाला housing loan कम से कम 75% और अधिकतम Loan to value ratio (LTV) 90% तक है।

उदाहरण के लिए किसी घर या जमीन का मार्केट प्राइस 1 लाख से 30 लाख रुपये है और आप उसे मॉर्गेज रजिस्टर्ड करवाते हैं तो उस संपत्ति का 90% तक लोन की धनराशि मिल सकती है। बाकि धनराशि आपको खुद लगानी होगी। स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया 75% से लेकर 90% तक लोन अमाउंट देता है।

अगर बात नॉन बैंकिंग फाइनेंसियल कंपनी (NBFC) की करें तो इनका कोई तय LTV नहीं है। कोई कंपनी कम तो कोई ज्यादा loan amount देती हैं।

दूसरी ओर अगर कोई बना बनाया मकान लेना चाहते हैं तो इसके लिए भी आपको उस मकान के कागजात को ऋण प्रदाता को देना होगा। जब आप ऋण का संपूर्ण पैसा जमा कर देंगे तब आपके मकान के कागजात ‘ट्रांसफर ऑफ़ प्रॉपर्टी‘ अधिनियम 1882 के अंतर्गत आपको दे दिया जायेगा। साधारण शब्दों में कहें तो आप loan चुकाने के बाद बैंक से No Objection Certificate (NOC) ले सकते हैं।

एक दूसरे प्रकार होम लोन होता है जिसे Loan Against Home कहा जाता है अर्थात लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी (LAP), इसे नीचे पढ़ें।

होम लोन के प्रकार

होम लोन मुख्य तौर से 4 से 5 प्रकार के होते हैं। ऐसा नहीं है कि ऋण सिर्फ नए घर को खरीदने के लिए ही लिया जाता हो। नया घर खरीदने के अतिरिक्त ऋण मकान के कई सारे कार्य के लिए जाता है जो निम्नलिखित है।

  • घर निर्माण के लिए भूमि की खरीद हेतु
  • नये मकान के खरीद हेतु
  • घर के मरम्मत के लिए
  • अधूरे घर के सम्पूर्ण निर्माण के लिए
  • पहले से बने हुए मकान के विस्तार के लिए
  • अन्य नए घर को खरीदने के लिए
  • घर के नवीनीकरण के लिए लोन
  • बैलेंस ट्रांसफर होम लोन
  • NRI Home Loan
  • ब्रिज्ड होम लोन (पहले से मौजूद संपत्ति अतिरिक्त एक और नए घर खरीदने लिए)
  • इत्यादि

होम लोन इंटरेस्ट रेट

जब बात लोन की आती है तो किसी भी सिक्योर्ड लोन का इंटरेस्ट रेट हमेशा कम ही होता है। Home Loan interest rate तो और भी कम होता है।

होम लोन का इंटरेस्ट रेट कुछ फैक्टर पर निर्भर करता है जैसे कि आपकी उम्र, इनकम, प्रॉपर्टी वैल्यू और लोकेशन, क्रेडिट स्कोर इत्यादि। इसके अतिरिक्त रेपो रेट में गिरावट भी होम लोन के इंटरेस्ट रेट को कम करने में मदद करता है।

इसके अलावा होम लोन इंटरेस्ट रेट इसपर भी निर्भर करता है कि आप Fixed Interest Rate अथवा Floating interest rate का चुनाव कर रहे हैं। आपके जानकारी के लिए बता दें कि fixed rate of interest हमेशा 1% से लेकर 2.5% ज्यादा होता है floating रेट से।

2022 में होम लोन का इंटरेस्ट रेट कम से कम 6.40% Bank of Maharashtra का है, इसके बाद दूसरे नंबर पर HSBC Bank का इंटरेस्ट 6.45% सालाना है और लगभग दोनों बैंक का प्रोसेसिंग फीस 10,000 रूपया है।

अगर सबसे अधिक इंटरेस्ट रेट की बात करें तो India Shelter Finance के home loan पर 12% तक इंटरेस्ट लगता है। इसके अतिरिक्त बंधन बैंक अधिकतम 13.50% इंटरेस्ट लेता है। हालांकि बंधन बैंक में आपको घर निर्माण या मरम्मत के लिए आसानी से लोन भी प्राप्त हो जाता है।

वेतनभोगी व्यक्तियों के लिए होम लोन

अगर आप नौकरी करते हैं और प्रत्येक माह आपको वेतन मिलता है तो भी आप Home Loan लिए आवेदन कर सकते हैं। वेतनभोगियों के लिए होम लोन की सुविधा उपलब्ध है, लेकिन लोन प्रदाता बैंक अथवा वित्तीय संस्थान का अपना-अपना पात्रता मापदंड (eligibility criteria) होता है।

जिस बैंक में आप होम लोन लिए अप्लाई करेंगे वह पहले यह सुनिक्षित करेगा की आप लोन के लिए पात्र हैं भी या नहीं। अगर आप सारे मापदंड को पूरा करते हैं तो होम लोन जायेगा।

वेतनभोगी व्यक्ति के लिए होम लोन एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया क्या है?

एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया कि बात करें तो यह लोन प्रदान करने वाले संस्थान पर निर्भर करता है कि होम लोन के लिए उनका मापदंड क्या क्या है। वेतनभोगी व्यक्ति अगर योग्य है तभी उसे home loan जारी किया जायेगा।

कुछ बैंक अथवा वित्तीय संस्थान का एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया निम्नलिखित है। वैसे लगभग सभी home loan देने वाले संस्थान को स्थायी वेतनभोगी व्यक्ति और उनकी न्यूनतम आयु 18 और 650 से अधिक सिबिल स्कोर चाहिए होता है। क्रेडिट स्कोर जितना ज्यादा रहेगा loan approval के chance बढ़ जायेगा।

क्रमिक संख्यासंस्थान का नामराष्ट्रीयताउम्रकार्य अनुभवCIBIL Scoreन्यूनतम आयऋण विवरणन्यूनतम संपत्ति मूल्य
1.Bajaj Finservभारतीय23 – 62 वर्ष3 वर्ष का अनुभव750 +25,000 से 30,000वित्तीय योग्यता के आधार पर ऋण15 लाख
2.SBI Home LoanभारतीयMin 18 – Max 70 साल (18 वर्ष के ऊपर किसी उम्र में लोन ले, लेकिन 70 वर्ष की आयु तक लोन का संपूर्ण भुगतान हो जाना चाहिए)3 माह का वेतन प्रमाणपत्र / 2 वर्ष का IT रिटर्न्स या फॉर्म 16 की कॉपी पिछले 2 वर्ष650 +वेतन का 60 गुना (आपका वेतनx60)वित्तीय प्रोफाइल के आधार पर ऋण की धनराशि1 – 30 लाख संपत्ति मूल्य पर 90%, 30 से 75 लाख पर 80% और 75 लाख से ऊपर के मूल्य के घर खरीद के लिए 75%
3.HDFCभारतीय व प्रवासी भारतीय (NRI) दोनों21 – 65 वर्षकोई स्थायी सरकारी नौकरी या प्रतिष्ठित निजी कंपनी में स्थायी कार्य700 +10,000 प्रति माहमौजूदा और भविष्य के आय के आधार पर पर लोन अमाउंट30 लाख तक के संपत्ति मूल्य का 90%, 30 से 75 लाख के मूल्य के प्रॉपर्टी का 80% और 75 लाख से ऊपर की संपत्ति होने पर 75% ऋण धनराशि मिल सकती है.

स्व-रोजगार (Self Employed) Home Loan

अगर आप self employed (स्वरोजगार) हैं और खुद का कोई व्यापार करते हैं तो home loan आपको भी मिल सकता है। व्यापारियों के लिए घर खरीदने, बनवाने या फिर मकान की मरम्मत करने के लिए भी उतनी ही आसानी से ऋण मिल जाता है।

बिजनेसमैन को आवास ऋण के लिए कुछ एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया है जो प्रत्येक बैंक व NBFC जरूर देखते हैं। चुकी भारत में बहुत से बैंक और गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी हैं जिनके सेल्फ एम्प्लॉयड होम लोन के एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया कुछ भिन्न हो सकते हैं।

हमने सभी बैंको और NBFC’s का eligibility criteria का एवरेज निकाल कर निम्नलिखित बताया है।

  • न्यूनतम आयु 24 साल
  • मैक्सिमम age 65
  • कम से कम 5 वर्ष पुराना व्यापार और उसमे आपका अनुभव
  • CIBIL स्कोर 750 या इससे ऊपर होना चाहिए
  • मिनिमम 2 – 3.6 लाख सालाना कारोबार
  • विगत और वर्तमान वित्तीय स्थिति स्थिर होनी चाहिए
  • इत्यादि

Loan Against Property (LAP) क्या है?

जब आप लोन प्राप्त करने के लिए किसी संपत्ति जैसे कि आपका घर, खुद की भूमि, कोई व्यावसायिक संपत्ति को मॉर्गेज के तौर पर बैंक या किसी ऋण प्रदाता संस्थान के समक्ष रखते हैं तो इस प्रकार के लोन को ‘लोन अगेंस्ट प्रॉपर्टी‘ (LAP) या लोन अगेंस्ट होम कहते हैं। अगर शुद्ध हिंदी में बतायें तो इसे संपत्ति पर मिलने वाला ऋण कहते हैं।

उदाहरण के लिए मान लीजिये आपका कोई घर है और आप बैंक के पास जाते हैं और कहते हैं कि मेरे पास एक घर है और उसपर मुझे लोन चाहिए, तो बैंक वाले आपके घर के पेपर को मांगते हैं और उसे सत्यापित करते हैं।

इसके बाद आपके उस घर की मार्केट वैल्यू का पता करते हैं और जो मार्केट मूल्य निकल कर आता है उसका 60% तक लोन मिल जाता है। अगर घर का मूल्य 10 लाख रूपया है तो आपको 6 लाख तक मिल जायेगा।

LAP में भी जब तक आप लोन जमा नहीं कर देते तब तक आपके प्रॉपर्टी का पेपर उस बैंक के पास ही रहेगा।

Home Loan लेने की प्रक्रिया (Process) क्या है 2022?

होम लोन लेने से पूर्व आवश्यक दस्तावेज पहले तैयार करना होगा, इसके बाद लोन के लिए अप्लाई करने का प्रोसेस शुरू कर सकते हैं। आपको बता दें कि होम लोन प्राप्त करने के लिए बैंक अथवा NBFC अपने पॉलिसी के अनुसार documents की मांग कर। किसी बैंक में कम से कम डॉक्यूमेंट में काम चल जाता है, तो कोई वित्तीय संस्थान कई सारे डॉक्यूमेंट की मांग करते हैं।

डॉक्यूमेंट तैयार कर लेने के उपरांत आप Home Loan के लिए apply कर सकते हैं।

Home Loan के लिए Apply कैसे करें?

अगर आप ऑफलाइन अप्लाई करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको उस बैंक के निकटतम ब्रांच में जाना है। इसके बाद आपको हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट से बात करनी होगी। आप चाहे तो ब्रांच मैनेजर से भी बात कर सकते हैं।

आपसे कुछ महत्वपूर्ण सवाल पूछा जायेगा जैसे कि लोन किस लिए लेना चाहते हैं, कितनी धनराशि की जरुरत है, आपकी प्रॉपर्टी कहाँ और उसकी वैल्यू कितनी है, कितने अवधि होम लोन चाहिए, उम्र कितनी है, आय का स्रोत क्या है और कितना है। इस प्रकार सवाल पूछे जा सकते हैं।

अगर बैंक को लगता है कि आपको Home Loan दिया जा सकता है, तो बैंक आवेदन करने का पूरा प्रोसेस बताएगा। फिर वो बैंक अपने Loan या होम लोन को पास करने वाले डिपार्टमेंट से बात करेगा।

इसके बाद आपको बैंक की ओर से फॉर्म दिया जायेगा जिसे आपको पूरा भरना होगा। उस फॉर्म में आपको अपना पर्सनल डिटेल जैसे नाम, पिता और माता का नाम, जन्म तिथि, पैन कार्ड नंबर, आधार नंबर, वैवाहिक स्थिति, शिक्षा, मोबाइल नंबर, शहर, ,स्थायी पता इत्यादि।

इसके अलावा आपको उसी फॉर्म में रोजगार, व्यवसाय और आय विवरण देना होगा जैसे एम्प्लॉयमेंट स्टेटस, उसमे आपका अनुभव, संस्थान का नाम और प्रकार, उसमे आपका पद, कितने साल सर्विस शेष है इत्यादि।

अगर आप सेल्फ एम्प्लॉयड (स्वरोजगार) या व्यवसायी हैं तो आपको उसका विवरण भरना होगा। इसके बाद आपको एक और फॉर्म में संपत्ति (प्रॉपर्टी) का विवरण भरना होगा। प्रॉपर्टी के विवरण में घर का नाम और नंबर, निर्मित मकान का कुल क्षेत्रफल (Sq Ft), विक्रेता का नाम, पता और उसका संपर्क नंबर, प्रॉपर्टी का पता, शहर, राज्य, जिला इत्यादि।

फिर आपलो ऋण का विवरण देना है जैसे कि संपत्ति की लागत, डाउन पेमेंट, लोन अमाउंट (जितना लोन लेना चाहते हैं), लोन लेने का उद्देश्य, लोन चुकाने का अंतराल (प्रतिमास, तिमाही, छमाही, वार्षिक), इंटरेस्ट रेट fixed या floating इत्यादि।

फॉर्म भरने के उपरांत आपको आवश्यक दस्तावेज संलग्न करना होगा और जहाँ जरुरत होगी वहां हस्ताक्षर भी करना होगा। इन सब प्रोसेस को बाद आपको फॉर्म बैंक में जमा कर देना है।

कुछ समय बाद बैंक का लोन डिपार्टमेंट आपके द्वारा दिए गए विवरण को सत्यापित करने लिए जांच करेगा और अपने स्टाफ को संपत्ति के खसरा-खतौनी की जाँच करने के लिए भेजेगा, जिसमे उसके साथ तहसील के लेखपाल, वकील भी हो सकते हैं।

अगर सब कुछ ठीक रहा तो होम लोन डिपार्टमेंट लोन डिपार्टमेंट मंजूरी देगा और ऋण की धनराशि विक्रेता के खाते में जाएगी।

होम लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • होम लोन के लिए कुछ दस्तावेज हैं जो बहुत ही महत्वपूर्ण हैं और इनका होना अनिवार्य है, उन दस्तावेज को निम्नलिखित बताया गया है।
  • पहचान के लिए आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, वोटर कार्ड इत्यादि
  • निवास प्रमाणपत्र
  • अपडेटेड पासबुक का नवीनतम फोटो कॉपी पिछले 6 माह का (बैंक खाते का विवरण)
  • आप जो व्यापार करते हैं उसका प्रमाणपरता
  • सैलरी स्लिप (सर्टिफिकेट)
  • अगर आप इनकम टैक्स देते हैं तो उसके प्रूफ के लिए चालान
  • बीते हुए दो वित्तीय वर्ष का आईटी रिटर्न्स

निवास प्रमाण के लिए दस्तावेज

  • राशन कार्ड
  • बिजली बिल का फोटो कॉपी
  • वैध टेलीफोन बिल
  • रोजगार पत्र
  • संपत्ति कर
  • इत्यादि

निष्कर्ष-

होम लोन कई सरे मकसद के लिए लिया जाता है। housing loan घर के निर्माण के लिए, घर के मरम्मत, फ्लैट खरीदने के लिए, पहले से निर्मित घर के खरीद के लिए लिया जाता है। होम लोन का ब्याज दर कम होता है क्योंकि ये लोन पूरी तरह से सिक्योर्ड लोन होता है और लम्बे समय तक चलता है। ब्याज दर हर बैंक अथवा वित्तीय संस्थान का अलग अलग हो सकता है। इसके अतिरिक्त home loan interest rate भी प्रत्येक बैंक का कम या ज्यादा हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here